टूटा हरसिंगार

शाख से टूट कर, एक सा मुकद्दर है।
सूखी पत्ती हो या ताजी - ताजी मुहब्बत ।।