The Purple Dream

 

 

 

 

रात सपनों के रेगिस्तान में फूल ही फूल खिले थे

क्या तुमने मेरी चाहत क़ुबूल कर ली ?

 

                                   

~ नीरज गर्ग

रूडकी ,  ०७-०३-१९८८